NCERT Class 5 Hindi Eighteenth Chapter चुनौती हिमालय की Exercise Question Solution

NCERT Class 5 Hindi Eighteenth Chapter Chunouti Himalay Ki Exercise Question Solution

चुनौती हिमालय की

वाद – विवाद

(1) (क) बर्फ़ से ढके चट्टानी पहाड़ों के उदास और फीके लगने की क्या वजह हो सकती थी?

(ख) बताओ, ये जगहें कब उदास और फीकी लगती हैं और यहाँ कब रौनक होती है?

घर, बाज़ार, स्कूल, खेत

Ans :- (क) बर्फ़ से ढके चट्टानी पहाड़ों के उदास और फीके लगने की वजह वहाँ पर हरियाली का बर्फ़ से ढक जाना होता है।

(ख) घर जब सब घर में मिलजुल कर एक साथ रहते हैं, तो रौनक होती है। सब लोग बाहर चले जाएँ या आपस में न बोले तो फीका लगता है।

बाज़ार – बाज़ार लगने पर रौनक लगती है और बाज़ार समाप्त होने लगता है, तो फीका लगता है।

स्कूल – जब स्कूल लगा होता है, तो रौनक रहती है। जब स्कूल में छुट्टी होती है, तो फीका लगता है।

खेत खेतों में जब फसल लहलहाने लगती है और किसान उसमें काम कर रहे होते हैं, तो रौनक रहती है। खेत कट जाने पर फीके लगते हैं।

(2) ‘जवाहरलाल को इस कठिन यात्रा के लिए तैयार नहीं होना चाहिए।’

तुम इससे सहमत हो तो भी तर्क दो, नहीं हो तो भी तर्क दो। अपने तर्कों को तुम कक्षा के सामने प्रस्तुत भी कर सकते हो।

 

कोलाज

कोलाज’ उस तस्वीर को कहते हैं जो कई तस्वीरों को छोटे-छोटे टुकड़ों में काटकर एक कागज़ पर चिपका कर बनाई जाती है।

(1) तुम मिलाकर पहाड़ों का एक कोलाज बनाओ। इसके लिए पहाड़ों से जुड़ी विभिन्न तस्वीरें इकट्ठा करो- पर्वतारोहण, चट्टान, पहाड़ों के अलग-अलग नज़ारे, चोटी, अलग-अलग किस्म के पहाड़। अब इन्हें एक बड़े से कागज़ पर पहाड़ के आकार में ही चिपकाओ। यदि चाहो तो ये कोलाज तुम अपनी कक्षा की एक दीवार पर भी बना सकते हो।

(2) अब इन चित्रों पर आधारित शब्दों का एक कोलाज बनाओ। कोलाज में ऐसे शब्द हों जो इन चित्रों का वर्णन कर पा रहे हों या मन में उठने वाल भावनाओं को बता रहे हों। अब इन दोनों कोलाजों को कक्षा में प्रदर्शित करो।

तुम्हारी समझ से

(1) इस वृत्तांत को पढ़ते-पढ़ते तुम्हें भी अपनी कोई छोटी या लंबी यात्रा याद आ रही हो तो उसके बारे में लिखो।

(2) जवाहरलाल को अमरनाथ तक का सफ़र अधूरा क्यों छोड़ना पड़ा?

Ans :- जवाहरलाल को अमरनाथ तक का सफ़र आधा छोड़ना पड़ा क्योंकि आगे जाने के लिए आवश्यक सामान नहीं था।

(3) जवाहरलाल, किशन और कुली सभी रस्सी से क्यों बँधे थे?

Ans :- जवाहर, किशन और कुली सभी रस्सी से इसलिए बँधे थे क्योंकि यदि वे पहाड़ से गिर जायें तो रस्सी के सहारे लटक कर बच सकें।

(4) (क) पाठ में नेहरू जी ने हिमालय से चुनौती महसूस की। कुछ लोग पर्वतारोहण क्यों करना चाहते हैं?

(ख) ऐसे कौन-से चुनौती भरे काम हैं तो तुम करना पसंद करोगे?

बोलते पहाड़

(1) उदास फीके बर्फ़ से ढके चट्टानी पहाड़

हिमालय की दुर्गम पर्वतमाला मुँह उठाए चुनौती दे रही थी।

“उदास होना” और “चुनौती देना” मनुष्य के स्वभाव हैं। यहाँ निर्जीव पहाड़ ऐसा कर रहे हैं। ऐसे और भी वाक्य हैं। जैसे –

बिजली चली गई।

चाँद ने शरमाकर अपना मुँह बादलों के पीछे कर लिया।

इस किताब के दूसरे पाठों में भी ऐसे वाक्य ढूँढ़ो।

Ans :- अन्य वाक्य इस प्रकार हैं-

(1) बर्फ़ चुपचाप गिर रही थी।

(2) जिसकी नंगी शाखों पर रूई के मोटे-मोटे गालों सी बर्फ चिपक गई थी।

(3) नीले चमचमाते आकाश के नीचे बर्फ़ से ढकी पहाड़ियाँ धूप सेंकने के लिए अपना चेहरा बादलों के बाहर निकाल लेती है।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *