NCERT Class 8 Hindi Vasant Bhag 3 Fourth Chapter दीवानों की हस्ती Exercise Question Solution

NCERT Class 8 Hindi Vasant Bhag 3 Fourth Chapter Diwano Ki Hasti Exercise Question Solution

दीवानों की हस्ती

कविता से

(1) कवि ने अपने आने को उल्लासऔर जाने को आँसू बनकर बह जानाक्यों कहा है?

Ans :- कवि अपने आने को ‘उल्लास’ कहता है क्योंकि किसी भी नई जगह पर आने से उसे खुशी मिलती है तथा उस स्थान को छोड़कर जाते समय दुख होता है और इसीलिए आँखों से आँसू निकल जाते हैं। वह अन्य लोगों को खुशियाँ बाँटता है जिससे वे अपना दुख भूल जाते हैं। जब वह जाता है तो वह यह दुख लेकर जाता है कि ये खुशियाँ हमेशा के लिए नहीं हैं।

(2) भिखमंगों की दुनिया में बेरोक प्यार लुटानेवाला कवि ऐसा क्यों कहता है कि वह अपने हृदय पर असफलता का एक निशान भार की तरह लेकर जा रहा है? क्या वह निराश है या प्रसन्न है?

Ans:- यहाँ भिखमंगों की दुनिया से कवि का आशय है कि यह दुनिया केवल लेना जानती है देना नहीं। कवि ने भी इस दुनिया को प्यार दिया पर इसके बदले में उसे वह प्यार नहीं मिला जिसकी वह आशा करता है। कवि के लिए यह उसकी असफलता है। इसलिए वह अपने हृदय पर असफलता का एक निशान भार की तरह लेकर जा रहा है। अत: कवि निराश है, वह समझता है कि प्यार और खुशियाँ लोगों के जीवन में भरने में असफल रहा।

(3) कविता में ऐसी कौन – सी बात है जो आपको अच्छी लगी ?

कविता से आगे

जीवन में मस्ती होनी चाहिए , लेकिन कब मस्ती हानिकारक हो सकती है ? सहपाठियों के बिच चर्चा कीजिए।

अनुमान और कल्पना

एक पंक्ति में कवि ने यह कहकर अपने अस्तित्व को नकारा है कि “हम दीवानों की क्या हस्ती, हैं आज यहाँ, कल वहाँ चले।” दूसरी पंक्ति में उसने यह कहकर अपने अस्तित्व को महत्त्व दिया है कि “मस्ती का आलम साथ चला, हम धूल उड़ाते जहाँ चले।” यह फाकामस्ती का उदाहरण है। अभाव में भी खुश रहना फाकामस्ती कही जाती है। कविता में इस प्रकार की अन्य पंक्तियाँ भी हैं उन्हें ध्यानपूर्वक पढ़िए और अनुमान लगाइए कि कविता में परस्पर विरोधी बातें क्यों की गई हैं ?

भाषा की बात

संतुष्टि के लिए कवि ने छककर’ ‘जी भरकरऔर खुलकरजैसे शब्दों का प्रयोग किया है। इसी भाव को व्यक्त करनेवाले कुछ और शब्द सोचकर लिखिए, जैसे -हँसकर, गाकर।

Ans :- (i) प्यार लुटाकर

(ii) मुस्कराकर

(iii) देकर

(iv) मस्त होकर

(v) सराबोर होकर


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

fifteen − two =