NCERT Class 8 Hindi Vasant Bhag 3 Fourteenth Chapter अकबरी लोटा Exercise Question Solution

NCERT Class 8 Hindi Vasant Bhag 3 Fourteenth Chapter Akbari Lota Exercise Question Solution

अकबरी लोटा

कहानी की बात

(1) “लाला ने लोटा ले लिया, बोले कुछ नहीं, अपनी पत्नी का अदब मानते थे।”

लाला झाऊलाल को बेढंगा लोटा बिलकुल पसंद नहीं था। फिर भी उन्होंने चुपचाप लोटा ले लिया। आपके विचार से वे चुप क्यों रहे? अपने विचार लिखिए।

(2) लाला झाऊलाल जी ने फौरन दो और दो जोड़कर स्थिति को समझ लिया।” आपके विचार से लाला झाऊलाल ने कौन-कौन सी बातें समझ ली होंगी?

(3) अंग्रेज़ के सामने बिलवासी जी ने झाऊलाल को पहचानने तक से क्यों इनकार कर दिया था? आपके विचार से बिलवासी जी ऐसा अजीब व्यवहार क्यों कर रहे थे? स्पष्ट कीजिए।

(4) बिलवासी जी ने रुपयों का प्रबंध कहाँ से किया था? लिखिए।

Ans :- बिलवासीजी ने रुपयों का प्रबंध अपने ही घर से अपनी पत्नी के संदूक से चोरी कर किया था।

(5) आपके विचार से अंग्रेज ने यह पुराना लोटा क्यों खरीद लिया? आपस में चर्चा करके वास्तविक कारण की खोज कीजिए और लिखिए।

अनुमान और कल्पना

(1) ” इस भेद को मेरे सिवाए मेरा ईश्वर ही जानता है। आप उसी से पूछ लीजिए। मैं नहीं बताऊँगा।बिलवासी जी ने यह बात किससे और क्यों कही? लिखिए।

Ans :- ‘बिलवासी’ जी ने यह बात ‘लाला झाऊलाल’ से कही क्योंकि बिलवासीजी ने रुपयों का प्रबंध अपने ही घर से अपनी पत्नी के संदूक से चोरी कर किया था इस रहस्य को वह ‘झाऊलाल’ के सामने खोलना नहीं चाहते थे।

(2) “उस दिन रात्रि में बिलवासी जी को देर तक नींद नहीं आई।समस्या झाऊलाल की थी और नींद बिलवासी की उड़ी तो क्यों? लिखिए।

Ans :- झाऊलाल के लिए बिलवासीजी ने अपनी पत्नी के संदूक से पैसे चोरी किए थे अब वे अपनी पत्नी के सोने की प्रतीक्षा में थे ताकि वह पैसे चुप-चाप संदूक में रख दे। इसलिए समस्या झाऊलाल की थी और नींद बिलवासी की उडी थी।

(3) लेकिन मुझे इसी जिंदगी में चाहिए।

अजी इसी सप्ताह में ले लेना।

सप्ताह से आपका तात्यर्य सात दिन से है या सात वर्ष से?”

झाऊलाल और उनकी पत्नी के बीच की इस बातचीत से क्या पता चलता है लिखिए।

Ans :- झाऊलाल और उनकी पत्नी के बीच की इस बातचीत से निम्न बातें उजागर होती हैं –

(1) झाऊलाल की पत्नी को अपने पति झाऊलाल के वादे पर भरोसा नहीं था।

(2) उनकी पत्नी ने पहले भी कुछ माँगा होगा परन्तु उन्होंने हाँ करने के बाद भी लाकर नहीं दिया होगा।

(3) झाऊलाल कंजूस प्रवृत्ति के हैं।

क्या होता यदि

(1) क्या होता यदि अंग्रेज़ लोटा न खरीदता?

Ans :- यदि अंग्रेज़ लोटा नहीं खरीदता तो बिलवासी जी को अपनी पत्नी से चुराए हुए रूपए लाला झाऊलाल को देने पड़ते। अन्यथा झाऊलाल अपनी पत्नी को पैसे नहीं दे पाते और अपनी पत्नी के सामने बेइज्जत होते।

(2) क्या होता यदि यदि अंग्रेज़ पुलिस को बुला लेता?

Ans :- यदि अंग्रेज़ पुलिस को बुला लेता तो सम्भवत: लाला झाऊलाल को गिरफ्तार कर लिया जाता या उन्हें जुर्माना देना पड़ता।

(3) जब बिलवासी अपनी पत्नी के गले से चाबी निकाल रहे थे, तभी उनकी पत्नी जाग जाती?

Ans :- गले से चाबी निकालते समय यदि बिलवासी जी की पत्नी जग जाती तो चोरी जैसा घिनौना काम करने पर उन्हें अपनी पत्नी के समक्ष शर्मिंदा होना पड़ता।

पता कीजिए

(1) ” अपने वेग में उल्का को लजाता हुआ वह आँखों से ओझल हो गया। ” उल्का क्या होती है ? उल्का और ग्रहों में कौन – कौन सी समानताएँ और अंतर होते हैं ?

(2) इस कहानी में आपने दो चीजों के बारे में मजेदार कहानियाँ पढ़ी -अकबरी लोटे की कहानी और जहाँगीर अंडे की कहानी।

(3) अपने घर या कक्षा की किसी पुराणी चीज़ के बारे में ऐसी ही कोई मजेदार कहानी बनाइए।

(4) बिलवासी जी ने जिस तरिके से रुपयों का प्रबंध किया , वह सही था या गलत ?

 भाषा की बात

(1) इस कहानी में लेखक ने जगह-जगह पर सीधी-सी बात कहने के बदले रोचक मुहावरों, उदाहरणों आदि के द्वारा कहकर अपनी बात को और अधिक मजेदार​/रोचक बना दिया है। कहानी से वे वाक्य चुनकर लिखिए जो आपको सबसे अधिक मजेदार लगे।

Ans :-  (1) अब तक बिलवासी जी को वे अपनी आँखो से खा चुके होते।

(2) कुछ ऐसी गढ़न उस लोटे की थी कि उसका बाप डमरू, माँ चिलम रही हो।

(3) ढ़ाई सौ रूपए तो एक साथ आँख सेंकने के लिए भी न मिलते हैं।

(2) इस कहानी में लेखक ने अनेक मुहावरों का प्रयोग किया है। कहानी में से पाँच मुहावरे चुनकर उनका प्रयोग करते हुए वाक्य लिखिए।

Ans :- (1) चैन की नींद सोना – (निश्चिंत सोना)

कुख्यात चोर के पकड़े जाने पर पुलिस चैन की नींद सोई।

(2) आँखों से खा जाना – (क्रोधित होना)

परीक्षा में कम अंक आने पर माँ ने पुत्र को ऐसे देखा मानो आँखों से ही खा जाएगी।

(3) आँख सेंकने के लिए भी न मिलना – (दुर्लभ होना)

हस्तकला से बनी वस्तुएँ तो आजकल आँख सेंकने के लिए भी नहीं मिलती हैं।

(4) मारा-मारा फिरना – (ठोकरें खाना)

बेटे आलीशान घर में रहते है और बाप बेचारा मारा-मारा फिरता हैं।

(5) डींगे सुनना – (झूठ-मूठ की तारीफ सुनना)

लाला जी घर में तो भीगी बिल्ली है परंतु बाहर अपनी बहादुरी की डींगें मारते फ़िरते हैं।


Leave a Reply

Your email address will not be published.